Friday, 12 October 2018

चौकीदार

पडोसी है मेरा फिर भी वो मुझसे रंज रखता है,
मेरी हर हार पे खुशियाँ मनाता तंज कसता है,
मेरा दुश्मन है फिर भी मानता है उसके लोहे को,
दबे मुँह मेरे चौकीदार की तारीफ करता है ।।

No comments:

Post a Comment