Friday, 26 October 2018

शब्द का मैदा तेल की स्याही, कागज जैसे गरम कढाई,
चीनी भावों भरी जलेबी, कविता बना रहा हलवाई

No comments:

Post a Comment